रैडक्रोस की दुकान अलॉटमेंट में धाँधली , जाँच में सचिव दोषी

रैडक्रोस रेवाड़ी द्वारा दी गई 70 दुकानों में से कुछ दुकान मालिकों पर 80 लाख रूपए का किराया बकाया है . जिसे जल्द वसूलने के  जिलाधीश यशेंद्र सिंह  ने आदेश दिए है.  जिलाधीश यशेंद्र सिंह ने आज  जिला रैडक्रास सोसायटी की समीक्षा की . उन्होंने रैडक्रास अधिकारियों को निर्देश दिए कि रैडक्रास सोसायटी लोगों के हित में कार्य करें तभी इसका उद्देश्य सार्थक होगा। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए कि रैडक्रास का कर्मचारी रैडक्रास कार्यालय में प्रतिदिन उपस्थिति दर्ज कराने के बाद ही अन्य कार्य के लिए जाएं।  रैडक्रास की दुकान 11-ए के ऑलाट के बारे में उन्होंने कहा कि अतिरिक्त उपायुक्त द्वारा इसकी जांच कराई जा चुकी है तथा इसमें तत्कालीन जिला रैडक्रास सचिव दोषी पाया गया है, उसके खिलाफ आगे की कार्यवाही बढ़ाई जाएं।

552 दिव्यांगों को दिए जायेंगे एक करोड़ के कृत्रिम अंग :
जिलाधीश ने कहा की जनवरी माह में दिव्यांगों का सर्वे रैडक्रास द्वारा करवाया गया था जिसमें 552 दिव्यांगों को एक करोड़ पांच लाख रूपए के सहायक व कृत्रिम अंग दिए जाने थे, जो कोविड-19 के कारण वितरित नहीं किए गए है। इसके लिए उपायुक्त ने कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए चुनिंदा लोगों को बुलाकर कैम्प का आयोजन कर दिव्यांगों को सहायक व कृत्रिम अंग दें .  तथा बाकि दिव्यांगों को उनके घर जाकर कृत्रिम अंग वितरित किए जाएं ताकि कोई भी दिव्यांग इससे वंचित न रहे।

रैडक्रोस की दुकानों का 80 लाख किराया बकाया , डीसी ने वसूलने के दिए आदेश : डीसी यशेन्द्र सिंह ने रैडक्रास की 70 दुकानों की समीक्षा करते हुए कहा कि इन दुकानों में से कुछ का 80 लाख रूपए से अधिक का किराया बाकि है उसे तत्काल वसूला जाए। रैडक्रास की दुकान 11-ए के ऑलाट के बारे में उन्होंने कहा कि अतिरिक्त उपायुक्त द्वारा इसकी जांच कराई जा चुकी है तथा इसमें तत्कालीन जिला रैडक्रास सचिव दोषी पाया गया है, उसके खिलाफ आगे की कार्यवाही बढ़ाई जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: