राष्ट्रीय

बैंक खाते बेचने वाले तीन ठगी रेवाड़ी साइबर पुलिस ने किये काबू

बैंक खाते बेचने वाले तीन ठगी रेवाड़ी साइबर पुलिस ने किये काबू

रेवाड़ी साइबर थाना पुलिस ने एक ऐसे गिरोह के तीन सदस्यों को काबू किया है. जो बैंक खाते बेचकर ठगी की वारदातों को अंजाम दिया करते थे. पकडे गए आरोपियों ने 31 वारदातों का खुलासा किया है. पुलिस का कहना है कि जो मुख्य आरोपी बैंक खाते की डिटेल्स खरीदता है उसकी पहचान भी हो गई है और जल्द उसे भी काबू कर लिया जायेगा.

 

आपको बता दें कि राजेश पायलेट चौक स्थित एक पीजी में रहने वाली लड़की ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि उन्होंने बैंक खाता खुलावाया था लेकिन बैंक की तरफ से जारी की गई डिटेल्स कीट उन्हें नहीं मिली, और उनके मेल आईडी पर ट्रांजेक्शन होने की मेल प्राप्त हुई है. पुलिस ने शिकायत के आधार पर केस दर्ज कर तफ्तीश शुरू की. जिसके बाद एक बाद एक तार जुड़ते चले गए और बैंक खाते बेचने वाले तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस के मुताबिक़ निजी कम्पनी में काम करने वाली 16 लड़कियां रेवाड़ी के राजेश पायलेट चौक स्थित एक पीजी में रहती है. जिन्हें बैंक खाते की जरूरत थी. पीजी संचालक हितेश ने सभी लड़कियों के बैंक खाते खुलवाने के लिए हितेश ने बैंक एजेंट मोनू के जरिये बैंक में खाता सभी डॉक्युमेंट को पूरा करते हुआ खुलवा दिया, लेकिन जो बैंक की तरफ से एटीएम, पासबुक जैसे दस्तावेज की कीट मिलती है वो खाता धारकों को नहीं दी गई. शातिर ठगों ने एटीएम कार्ड के जरिये एटीएम बूथ पर जाकर मोबाइल नम्बर और मेलआई बदल दी, ताकि बैंक अकाउंट में होने वाली ट्रांजेक्शन की भनक खाता धारकों को ना लगे. लेकिन एक खाते से मेलआई नहीं बदली गई. जिस मेल पर ट्रांजेक्शन की जानकारी मिली तो पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है. और पुलिस ने इस पूरे गिरोह का भांडाभोड़ कर दिया.

 

पुलिस ने पूछताछ में सामने आया है कि बैंक एजेंट मोनू ने प्रत्येक खाते के 2 हजार रूपए में बैंक खाते की कीट इनाम को बेच दी और इनाम ने आगे 7 हजार रूपए में ये बैंक खाते की कीट बेच दी . जिसके बाद पुलिस ने तीनों आरोपियों को काबू किया है. और इनाम ने गुरुग्राम और रेवाड़ी में ऐसे 31 बैंक खातों की कीट बेचने की वारदात को कबूला है.

पकड़ा गया आरोपी इनाम भरतपूर के किसी व्यक्ति की ये बैंक खाते की कीट बेचता था. जिसकी पुलिस ने पहचान कर ली है. पुलिस का कहना है कि मुख्यआरोपी को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा. जिससे पूछताछ के बाद और कई खुलासे हो सकते है. बैंक खातों में हुई ट्रांजेक्शन से मुम्बई , गुरुग्राम , मेवात और भरतपुर की लोकेशन सामने आई है. ऐसे में उम्मीद है कि जैसे जैसे पुलिस की जाँच आगे बढ़ेगी वैसे –वैसे और कई खुलासे हो सकते है.

Show More
Back to top button