राष्ट्रीय

पाक में गलती से गिरी भारत की मिसाइल,संसद में रक्षामंत्री ने दिया ये जवाब

भारतीय सेना की बिना हथियारों वाली यह मिसाइल 9 मार्च को पाकिस्तान में 261 किलोमीटर अंदर बसे शहर चन्नू मियां के पास जा गिरी थी। चूंकि इसमें हथियार नहीं थे, इसलिए कोई नुकसान नहीं हुआ था।

गलती का जांच में चलेगा पता

राजनाथ सिंह ने आगे कहा- यह घटना मिसाइल की जांच करते वक्त हुई। मिसाइल यूनिट शाम लगभग 7 बजे रेग्युलर मेंटेन्स का काम कर रही थी। तभी गलती से एक मिसाइल छूट गई। बाद में पता चला कि मिसाइल पाकिस्तान के इलाके में गिरी थी। घटना खेदजनक है। लेकिन राहत की बात है कि कोई नुकसान नहीं हुआ।

सरकार ने इस मामले को बहुत गंभीरता से लिया है और उच्च स्तरीय जांच के लिए आदेश दिए गए हैं। घटना के सही कारणों का पता जांच से ही चल पाएगा। हथियारों के मेंटेनेन्स से जुड़ी प्रोसेस की भी समीक्षा की जा रही है।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह
 

पाकिस्तान ने बर्खास्त किए एयरफोर्स के डिप्टी चीफ और दो मार्शल

भारत की ओर से लॉन्च मिसाइल ट्रैक न कर पाने पर पाकिस्तानी एयरफोर्स के 3 अफसरों को नौकरी से हटा दिया गया है। इनमें डिप्टी चीफ और दो एयर मार्शल शामिल हैं।हालांकि पाकिस्तान में डर बैठ गया है कि भारत रूस के नक्शेकदम पर न चल पड़े। यह अंदेशा भारत में पाकिस्तान के एम्बेसडर रह चुके डॉ. अब्दुल बासित ने जताया है।

पाक PM इमरान ने दी थी धमकी
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 9 मार्च को भारत की तरफ से गलती से चली मिसाइल का मामला उठाते हुए एक तरह से धमकी दी है। रविवार को एक भाषण में खान ने कहा- आप सब जानते हैं कि 9 मार्च को क्या हुआ। भारत की तरफ से हमारे देश पर एक मिसाइल दागी गई। हम चाहते तो उसी वक्त इसका जवाब दे सकते थे, लेकिन हमने होश से काम लिया।
उधर, अमेरिका ने भी कहा है कि भारत से मिसाइल दागा जाना महज एक हादसा है। इसके अलावा कोई संकेत नहीं हैं।

पाकिस्तान के NSA मोईद युसूफ ने उठाए थे सवाल
पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद युसूफ ने भारत सरकार की सेंसिटिव टेक्नोलॉजी संभालने की क्षमता पर सवाल उठाए। एक सोशल मीडिया पोस्ट में उन्होंने कहा- दिल्ली को यह कबूल करने में दो दिन से ज्यादा वक्त लगा था कि यह उनकी मिसाइल थी, जो गलती से फायर हो गई। इस हादसे से भारत की सेंसिटिव टेक्नोलॉजी संभालने की काबिलियत पर सवाल खड़े होते हैं।

अमेरिका ने भारत का  दिया साथ

अमेरिका ने कहा है कि भारत की ओर से पाकिस्तान में गिरी मिसाइल के दुर्घटनावश चलने के अलावाअन्य कोई कारण नजर नहीं आता. अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने सोमवार को दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘जैसा कि आपने हमारे भारतीय साथियों से भी सुना है कि यह घटना एक गलती के अलावा और कुछ भी नहीं थी, हमें भी इसके पीछे और कोई कारण नजर नहीं आता.प्राइस ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘आप इस संबंध में अन्य कोई भी सवाल भारतीय रक्षा मंत्रालय से करें. उन्होंने नौ मार्च को एक बयान जारी कर स्पष्ट किया था कि वास्तव में उस दिन क्या हुआ था. हम उससे इतर कोई टिप्पणी नहीं कर सकते.’ 

आदेश जारी

भारत ने अपनी गलती मानते हुए हाईलेवल कोर्ट ऑफ इन्क्वॉयरी के ऑर्डर जारी कर दिए थे। पाकिस्तान के एक जर्नलिस्ट मोहम्मद इब्राहिम काजी ने सोशल मीडिया पर दावा किया था कि भारत से छोड़ी गई मिसाइल का नाम ब्रह्मोस है। इसकी रेंज 290 किलोमीटर है। इंडियन एयरफोर्स इसका स्टॉक राजस्थान के श्रीगंगानगर में रखती है। हालांकि, पाकिस्तानी फौज का दावा है कि यह मिसाइल हरियाणा के सिरसा से दागी गई।

Back to top button