राष्ट्रीय

1 हजार करोड़ के टेंडर फाइनल  स्टेज पर  – राव इंद्रजीत

1 हजार करोड़ के टेंडर फाइनल  स्टेज पर  – राव इंद्रजीत

दिल्ली जयपुर नेशनल हाईवे का सफर आसान बनाने व यातायात का दबाव कम करने के लिए मानेसर में एलिवेटेड फ्लाईओवर व  बिलासपुर चौक पर फ्लाईओवर की सभी औपचारिकताएं अंतिम चरण में है।  गुरुग्राम – जयपुर तक नेशनल हाईवे  48 की दशा सुधारने के लिए करीब 1000 करोड़ रुपए की योजनाओं को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इन योजनाओं का शिलान्यास केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी जनवरी तक में करेंगे।

 

 

जयपुर नेशनल हाईवे रिर्कापेटिंग  के लिए 459 करोड़ रुपए का बजट केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्रालय की ओर से मंजूर किया गया है। केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि संसद में केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से उनकी मुलाकात के दौरान एनएचएआई के अधिकारियों ने उन्हें यह जानकारी दी है। एनएचएआई के मेंबर मनोज अग्रवाल ने उन्हें बताया कि इन योजनाओं के टेंडर को दिसंबर माह के अंत तक अंतिम रूप दे दिया जाएगा और जनवरी में केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री से इन योजनाओं का शिलान्यास करवाया जाएगा। श्री अग्रवाल ने बताया कि इन योजनाओं के टेंडर फाइनल होने के बाद फाइनेंसियल बिड को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

 

 

केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत  ने बताया कि दिल्ली – जयपुर नेशनल हाईवे स्थित बिलासपुर चौक व मानेसर में यातायात का काफी दबाव पिछले वर्षों से है। अनेकों बार सड़क दुर्घटनाएं भी हो चुकी है। उन्होंने बताया कि पिछले वर्षों से वे मानेसर में एलिवेटेड रोड व बिलासपुर चौक पर फ्लाईओवर बनाने की मांग को लेकर लगातार केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री के संपर्क में थे। हाईवे का निर्माण करने वाली कंपनी से विवाद के चलते योजनाओं के निर्माण में देरी हुई। शनिवार को राष्ट्रीय राजमार्ग अधिकारियों ने केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत को  बताया कि बिलासपुर चौक करीब ₹23 करोड़ की लागत से , मानेसर एलिवेटेड फ्लाईओवर करीब ₹ 90 करोड़ की लागत से व बावल चौक 23 करोड़ से तैयार होगा। कार्यों के टेंडर को दिसंबर  के अंतिम सप्ताह तक अंतिम रूप दे दिया जाएगा ।  राव ने कहां की इन योजनाओं के पूरा होने के बाद दिल्ली जयपुर के सफर को और भी आसान बनाया जा सकेगा।

 

 

केंद्रीय मंत्री इंद्रजीत ने बताया कि मानेसर से आगे दिल्ली जयपुर नेशनल हाईवे की स्थिति काफी खराब है और अन्य जगह से जो टूटा हुआ है वही सर्विस लेन की हालत भी काफी खस्ता है। धारूहेड़ा में सर्विस लेन सहित हाईवे की दशा काफी खराब है। जयपुर नेशनल हाईवे की मरम्मत के लिए 459 करोड़ का टेंडर भी इसी योजना में शामिल है। धारूहेड़ा बाईपास करीब 200 करोड़ रुपए की लागत से बनाया बनाया जाएगा जिसके टेंडर को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है।

Back to top button