Home रेवाड़ी New projects: रेवाड़ी और पलवल जिले को मिले 12 करोड़ रुपये से...

New projects: रेवाड़ी और पलवल जिले को मिले 12 करोड़ रुपये से अधिक की लागत के 2 नए प्रोजेक्ट, मुख्यमंत्री ने दी मंजूरी

63
0
driving

New projects: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने जिला रेवाडी और पलवल में ग्रामीण विकास कार्यों के तहत 12 करोड़ रुपये से अधिक की लागत के 2 नए प्रोजेक्ट को प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की है।

रेवाड़ी जिले को मिले 2 New projects

इस संबंध में जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि स्वीकृत कार्यों में जिला रेवाड़ी के रोहराई, कोसली में नहर आधारित औद्योगिक वॉटर वर्क्स और फ्रेश वॉटर हेतु पंपिंग स्टेशन का निर्माण शामिल है। इसकी अनुमानित लागत 10.43 करोड़ रुपये है। इसके अलावा, जल आपूर्ति योजना में सुधार हेतु गांव पचंका तहसील हथीन, जिला पलवल में 100 केएल क्षमता का यूजीटी का निर्माण करने सहित 2 ट्यूबवेलों की स्थापना व वितरण पाइप लाइन बिछाने का कार्य किया जाएगा। जिस पर लगभग 2.27 करोड़ रुपये की लागत आएगी।

रोहराई गांव में ग्रामीणों को मिलेंगे कई लाभ

प्रवक्ता ने बताया कि गांव रोहराई को वर्तमान में गांव रोझुवास, रेवाड़ी से नहर आधारित योजना के माध्यम से पेयजल आपूर्ति प्रदान की जाती है। वर्तमान जल आपूर्ति की स्थिति 52 एलपीसीडी (प्रतिदिन प्रति व्यक्ति लीटर पानी) है, जोकि वॉटर वर्क्स से दूरी को देखते हुए मौजूदा मांग के अनुसार पर्याप्त नहीं है। उन्होंने बताया कि रोहराई गांव में 70 एलपीसीडी की दर से पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए गांव के भीतर एक स्वतंत्र नहर आधारित वाटर वर्क्स का निर्माण किया जाएगा।

इसके पूरा होने से स्थायी पेयजल आपूर्ति उपलब्धता के साथ-साथ रोहराई गांव में ग्रामीणों को कई लाभ मिलेंगे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को स्वीकृत परियोजना को जल्द से जल्द शुरू करने और परियोजनाओं को निश्चित समयावधि में पूरा करने के लिए समय सीमा निर्धारित करने का निर्देश दिया है।

हरियाणा देश का तीसरा राज्य

प्रवक्ता ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में पाइप जलापूर्ति सुविधा उपलब्ध कराने में हरियाणा अग्रणी है। पेयजल आपूर्ति योजनाएं मुख्य रूप से ट्यूबवेल/सतह स्रोतों और रैनीवेल्स पर आधारित हैं। निजी पानी कनेक्शन की सुविधा के लिए गांवों में वितरण प्रणाली भी स्थापित है। उन्होंने बताया कि हरियाणा देश का तीसरा राज्य है, जहां ग्रामीण क्षेत्र के हर परिवार को अपने घर में नल से साफ पानी मिलना शुरू हो गया है।