खेलहरियाणा

दबदबाः हरियाणा के 6 खिलाड़ी व एक कोच राष्ट्रीय खेल पुरस्कार 2022 से हुए सम्मानित, मुख्यमंत्री ने दी बधाई

एथलीट सीमा पूनिया (सोनीपत), मुक्केबाज अमित पंघाल (रोहतक), कबड्डी खिलाड़ी साक्षी (सोनीपत), कुश्ती खिलाड़ी अंशु मलिक (जींद) व सरिता मोर (सोनीपत) और बैडमिंटन के पैरा खिलाड़ी तरुण ढिल्लों (हिसार) को अर्जुन पुरस्कार तो कुश्ती कोच राज सिंह (सोनीपत) को लाइफटाइम श्रेणी में द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

हरियाणा के 6 खिलाड़ियों व एक कोच को इस वर्ष राष्ट्रीय खेल पुरस्कार 2022 से सम्मानित किया गया है। एथलीट सीमा पूनिया (सोनीपत), मुक्केबाज अमित पंघाल (रोहतक), कबड्डी खिलाड़ी साक्षी (सोनीपत), कुश्ती खिलाड़ी अंशु मलिक (जींद) व सरिता मोर (सोनीपत) और बैडमिंटन के पैरा खिलाड़ी तरुण ढिल्लों (हिसार) को अर्जुन पुरस्कार तो कुश्ती कोच राज सिंह (सोनीपत) को लाइफटाइम श्रेणी में द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने खिलाड़ियों को राष्ट्रीय खेल पुरस्कार से सम्मानित होने पर बधाई दी है। उन्होंने कहा कि खेलों की राजधानी हरियाणा के खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर की विभिन्न प्रतियोगिताओं में अपना शानदार प्रदर्शन करते हैं। इसी का नतीजा है कि अधिकतर मेडल हरियाणा की झोली में गिरते हैं।

मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा लगातार खेलों में नंबर-1 बना हुआ है। हरियाणा देश का पहला राज्य है, जो पदक विजेता खिलाड़ियों को सर्वाधिक नकद पुरस्कार राशि देता है। उन्होंने कहा कि सरकार ने ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक विजेता को 6 करोड़ रुपये, रजत पदक विजेता को 4 करोड़ रुपये और कांस्य पदक विजेता को 2.5 करोड़ रुपये के नकद पुरस्कार का प्रावधान किया है।

दुनिया के कई देशों से हरियाणा आगे

मेडल विजेता के लिए इनाम में दुनिया के कई देशों से हरियाणा आगे है। उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को दी जाने वाली सबसे अधिक इनामी राशि को लेकर हरियाणा की खेल नीति की देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी सराहना होती रही है। दूसरे प्रदेश भी हरियाणा की खेल नीति का अनुसरण करने के लिए यहां का दौरा कर चुके हैं।

उल्लेखनीय है कि बीते वर्षों में जितने भी खेल के टूर्नामेंट हुए हैं, एशियाई खेल, कॉमनवेल्थ या ओलंपिक सभी में हरियाणा की भूमिका अहम है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल के कुशल नेतृत्व में हरियाणा सरकार भी खिलाड़ियों को बेहतरीन सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। हरियाणा देश का पहला राज्य है, जिसने ओलम्पिक व पैरालम्पिक खेलों के लिए क्वालीफाई करते ही खिलाड़ी को तैयारी के लिए 5 लाख रुपये की एडवांस राशि देने की व्यवस्था की है। हरियाणा सरकार निरंतर खेलों को बढ़ावा देने के लिए कटिबद्ध है।

 

Show More
Back to top button
%d bloggers like this: