Home More रेवाड़ी: फेक कंपनी (fictitious company ) का लाइसेंस बनाकर खरीदी जाती...

रेवाड़ी: फेक कंपनी (fictitious company ) का लाइसेंस बनाकर खरीदी जाती थी दवाइयां,पुलिस रिमांड मे उगले राज

15
0
fictitious company

बता दें कि 12 फ़रवरी को पुलिस को सूचना मिली थी कि बनीपुर चौक स्थित विनायक मेडिकल स्टोर (medical store) पर नशीली दवाइयां बेची जा रही है. जिस सूचना के आधार पर सीआईए धारूहेड़ा पुलिस ने रेड की. जहाँ से सुखबीर नाम के व्यक्ति को दवाइयों सहित काबू किया. सुखबीर के पुलिस रिमांड के दौरान जड़थल के रहने वाले गौतम का नाम सामने आया ..गौतम को भी पुलिस ने बड़ी मात्रा में प्रतिबंधित दवाइयां सहित काबू किया था.

जिसके बाद पूछताछ में माछरौली के अलीम खान का नाम सामने आया था. अलीम खान को पुलिस ने 17 फ़रवरी को गिरफ्तार करके कोर्ट में पेश किया और 5 दिन का पुलिस रिमांड लिया. आरोपी अलीम खान ने पुलिस रिमांड के दौरान दवाइयों के काले कारोबार (dark business) का पूरा सच बता दिया. पुलिस ने अलीम खान के पास से 30 एमटीपी कीट (MTP KIT), एक स्विफ्ट कार और 5 लाख रूपए बरामद किये है.

kasola thana

पूछताछ में अलीम खान ने बताया है कि शक्ति सिंह नाम के व्यक्ति के दस्तावेजों के फेक दस्तावेज बनाकर फर्जी कम्पनी (fictitious company) रजिस्टर्ड की और उसी के आधार पर मेडिकल कम्पनियों के लाइसेंस लिए गए. अलीम खान से मिले दस्तावेज यहाँ तक की बैंक चैकबुक (Cheque book) भी फर्जी मिली है. पुलिस का कहना है कि अभी मामले की जांच जारी है. जो भी इस मामले में शामिल पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी. कुछ मेडिकल स्टोर्स (medical store) के नाम भी सामने आये है. जिन्हें जाँच में शामिल किया जाएगा

आपको बता दें कि करीबन दस दिनों की जाँच के दौरान पुलिस अबतक 960 एमटीपी किट (MTP KIT), 240  ट्रामाडोल कैप्सूल और 2 हजार ट्रामाडोल इंजेक्शन बरामद कर चुकी है. आरोपियों से दो कार भी पुलिस ने बरामद है. जैसे-जैसे पुलिस की जाँच आगे बढ़ रही है. वैसे-वैसे जिन लोगों के नाम सामने आ रहे है उनसे भी पुलिस पूछताछ कर रही है.