ब्रेकिंग न्यूजरेवाड़ी

रेवाड़ी के सोलाराही व बड़ा तालाब की अब बदलेगी तस्वीर, करीब 9 करोड़ रुपए की मिली मंजूरी

अथॉरिटी ने इन ऐतिहासिक तालाबों की योजनाओं के लिए करीब 9 करोड़ रुपए की मंजूरी प्रदान की है। योजना में आने वाले दिनों में सौंदर्यीकरण के पश्चात वर्षा के दौरान इन तालाबों में पानी भरने और जल संचयन करने की योजना को भी अंतिम रूप दिया जाएगा।

रेवाड़ी शहर के ऐतिहासिक तालाबों की सूरत अब बदलने जा रही है। केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत के प्रयासों से शहर के ऐतिहासिक सोलाराही व बड़ा तालाब के सौंदर्यीकरण की योजना को मंजूरी दे दी गई है। करीब 9 करोड़ रुपए की लागत से शहर के इन ऐतिहासिक तालाबों की तस्वीर बदलने के साथ ही पानी संचयन की दिशा में भी एक बड़ा कदम होगा।

हरियाणा पोंड अथॉरिटी ने शहर के दोनों तालाबों की योजनाओं को मंजूरी दे दी है। केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछले वर्षों से वे शहर के इन ऐतिहासिक तालाबों के सौंदर्यीकरण की योजना को लेकर प्रयासरत थे।

अनेक बैठकों में उन्होंने अधिकारियों से इस योजना के संबंध में जवाब तलब भी किया था। अधिकारियों की ओर से इस योजना का खाका तैयार कर चंडीगढ़ भेज दिया गया था जो काफी समय से लंबित था। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस संबंध में उन्होंने हरियाणा पोंड अथॉरिटी के अधिकारियों से बातचीत की और योजना को हरी झंडी देने के निर्देश दिए। इससे पूर्व योजना को लेकर पुरातत्व विभाग व लोक निर्माण विभाग के बीच बातें चल रही थी जो कि सिरे नहीं चढ़ पा रही थी।

करीब 9 करोड रुपए की मिली मंजूरी

उन्होंने बताया कि शहर में जल संचयन व पर्यटन के लिए ऐतिहासिक इन तालाबों के विवाद को दूर करते हुए हरियाणा पोंड अथॉरिटी को इन दोनों तलाब सोलाराही व बड़ा तलाब के सौंदर्यीकरण के लिए योजनाओं को भेजा गया। अथॉरिटी ने इन ऐतिहासिक तालाबों की योजनाओं के लिए करीब 9 करोड रुपए की मंजूरी प्रदान की है।  योजना में आने वाले दिनों में सौंदर्यीकरण के पश्चात वर्षा के दौरान इन तालाबों में पानी भरने और जल संचयन करने की योजना को भी अंतिम रूप दिया जाएगा।

पर्यटन के तौर पर भी होंगे विकसित

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि रेवाड़ी के ऐतिहासिक तालाबों की सूरत सुधारने में इस योजना का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। राव ने कहा कि शहर के इन ऐतिहासिक तालाबों को पर्यटन के तौर पर भी विकसित किया जाएगा ताकि शहरवासियों के साथ-साथ , नई पीढ़ी व पर्यटको को इन ऐतिहासिक तालाबों से जुड़ी जानकारी प्राप्त हो सके।

Back to top button