पुलिसब्रेकिंग न्यूजरेवाड़ी

छुआछूत से आजादी की मांग को लेकर दिल्ली जा रही यात्रा को हरियाणा बॉर्डर पर रोका

जातिगत भेदभाव और छुआछूत से आजादी दिलाने की मांग को लेकर गुजरात से दिल्ली तक शुरू की गई भीम रुदन यात्रा को हरियाणा पुलिस ने राजस्थान-हरियाणा बॉर्डर पर रोक दिया. जिसके बाद यात्रा में शामिल लोगों ने हाइवे किनारे ही ढेरा डाल लिया और छुआछूत से आजादी दिलाने के नारे लगाकर मांग की गई कि देश को आजाद हुए 75 वर्ष हो गए लेकिन समाज में अभी भी जातिगत भेदभाव और छुआछूत का व्यवहार किया जा रहा है.

आपको बता दें कि गुजरात के अहमदाबाद से एक अगस्त को भीम रुदल यात्रा की शुरुआत की गई थी. जो यात्रा राजस्थान के विभिन्न जिलों से होते हुए दिल्ली पहुंचनी थी. लेकिन दिल्ली –जयपुर नेशनल हाइवे स्थित जयसिंहपुर खेड़ा बॉर्डर पर ही हरियाणा पुलिस ने यात्रा को रोक दिया. 7 अगस्त दोपहर से ही बड़ी संख्या में साउथ रेंज के आईजी सहित प्रशासनिक अधिकारी और पुलिस फ़ोर्स बॉर्डर पर तैनात रही.

देर रात यात्रा हरियाणा राजस्थान बॉर्डर पहुँची जहाँ पुलिस ने यात्रा को रोक दिया और यात्रा में शामिल करीबन 20 वाहनों में साढ़े तीन सो लोगों ने हाइवे किनारे ही ढेरा डाल लिया. यात्रा के माध्यम से चंदे से एकत्रित किए गए 22 लाख रूपए के सिक्के और 1111 किलोग्राम का पीतल का सिक्का सरकार को सौंपना था. पीतल के सिक्के पर एक साइड बाबा साहब और दूसरी साइड माहत्मा बुद्ध के चित्र उकरे गए है.

यात्रा के संयोजन का कहना है कि 15 अगस्त की सुरक्षा का हवाला देते हुए उन्हें यहाँ रोक दिया गया है. इसलिए 24 घंटे वो यहीं रूककर इंतजार करेंगे कि सरकार का प्रतिनिधि जो वो देने आए है ले ले. जिसके बाद वो वापिस लौट जायेंगे.

 

फिलहाल यात्रा में शामिल सभी लोग हाइवे किनारे बैठे हुए है. और पुलिस फ़ोर्स बॉर्डर पर तैनात है. इस बारे में पुलिस और प्रशासन द्वारा कोई बोलने को तैयार नहीं है. आईजी एम रवि किरण और बावल एसडीएम संजीव कुमार से हमने बात करने की कोशिश भी की लेकिन दोनों ने ही कुछ भी बताने से इनकार कर दिया.

Show More
Back to top button