पुलिसरेवाड़ी

नाबालिग से दुष्कर्म के दोषी को 20 साल कैद व 21 हजार रुपए जुर्माने की सजा

शहर के एक मोहल्ला की रहने वाली नाबालिग लड़की से दुष्कर्म करने के आरोपी को फास्ट ट्रैक स्पेशल कोर्ट की अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश अर्चना यादव की अदालत ने दोषी करार देते हुए 20 साल की कैद और 21 हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई है। जुर्माना नहीं भरने पर दोषी को 6 महीने की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।

शहर के एक मोहल्ला के रहने वाले व्यक्ति ने अपनी शिकायत में कहा था कि उसकी 15 वर्षीय छोटी बेटी घर पर रहती है। मैं और मेरी पत्नी मेहनत मजदूरी का काम करते है जो सुबह घर से जाते है और शाम को आते है। 30 जून 2019 को भी पति-पत्नी काम पर गए हुए थे। हमारे पडोसी की पत्नी अपने मायके गई हुई थी। उनकी नाबालिग बेटी पड़ोसी के घर रोटी बनाने गई थी, लेकिन देर शाम तक वापस घर नहीं लौटी।

काम से आने के बाद वह पड़ोसी के घर अपनी बेटी को बुलाने गए तो वह रो रही थी। उसने रोने का कारण पूछा तो उसने कुछ नहीं बताया। 9 जुलाई 2019 को उनकी बेटी ने अपनी मां को बताया कि 30 जून को वह रोटी बनाने गई तो पड़ोसी ने उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई थी। शिकायत के बाद पुलिस ने नाबालिग का मेडिकल कराया और आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म व धमकी देने का मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया।

जांच के बाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अदालत में चालान पेश किया। पुलिस द्वारा आरोपी के खिलाफ अदालत के समक्ष रखे गए ठोस साक्ष्यों व गवाहों के बयान के बाद फास्ट ट्रैक स्पेशल कोर्ट की अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश अर्चना यादव की अदालत ने दोषी करार देते हुए 20 साल की कैद व 21 हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई है। जुर्माना नहीं भरने पर दोषी को 6 महीने की अतिरिक्त जेल की सजा भुगतनी होगी।

Show More
Back to top button