Thursday, December 9, 2021
HomeNationalरेवाडी-पालनपुर रेलखण्ड पर दोहरीकरण के बाद अब विद्युतीकरण कार्य पूर्ण

रेवाडी-पालनपुर रेलखण्ड पर दोहरीकरण के बाद अब विद्युतीकरण कार्य पूर्ण

उत्तर पश्चिम रेलवे पर पर्यावरण अनुकूल रेल संचालन के लिये विद्युतीकरण रेल का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। रेवाडी से पालनपुर तक विद्युतीकरण के कार्य को विभिन्न चरणों में पूरा कर लिया गया है। रेल संरक्षा आयुक्त द्वारा अजमेर-दौराई व ब्यावर-गुडिया के 50.17 किलोमीटर रेलमार्ग को दिनांक 29.10.2021 को इलेक्ट्रिक ट्रेक्षन पर रेल संचालन हेतु अनुमोदित किया है।  विजय शर्मा के दिषा-निर्देषों के अनुसार दिनांक 10.11.2021 को पालनपुर से मदार के लिये गुड्स ट्रेन का संचालन इलेक्ट्रिक ट्रेक्शन पर प्रारम्भ किया गया है। रेवाडी से पालनपुर रेलखण्ड के विद्युतीकरण व दोहरीकरण हो जाने से रेल संचालन सुगम व तीव्र गति से किया जाना संभव होगा।

 

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी कैप्टन शशी किरण के अनुसार उत्तर पश्चिम रेलवे पर रेल विद्युतीकरण के कार्य तीव्र गति से किये जा रहे है तथा वर्ष 2023 तक सभी मार्गों का विद्युतीकरण करने का लक्ष्य रखा गया है। इसी क्रम में उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य रेलमार्ग रेवाडी से पालनपुर 716 किलोमीटर रेलखण्ड का विद्युतीकरण कार्य पूर्ण कर लिया गया है। उल्लेखनीय है रेवाडी-पालनपुर मार्ग का सम्पूर्ण दोहरीकरण कार्य दिनांक 20.03.2021 को पूरा किया गया था।

रेवाडी पालनपुर रेलखण्ड पर रेवाडी-अलवर रेलखण्ड के विद्युतीकरण का कार्य वर्ष 2011-12 में 118 करोड की लागत से तथा रेवाडी-रींगस-फुलेरा-पालनपुर व अलवर-जयपुर-फुलेरा 940 किलोमीटर रेलखण्ड के विद्युतीकरण का कार्य 2013-14 में 852 करोड रूपये  की लागत के साथ स्वीकृत किया गया। दिल्ली-रेवाडी-रींगस-फुलेरा-पालनपुर व कनकपुरा-मदार रेलमार्ग पर हाई राइज ओएचई लाइन स्थापित की गई है, जिससे इस मार्ग पर डबल स्टैक ट्रेनों को पर्यावरण अनुकूल इलेक्ट्रिक टेªक्षन पर सुगमता के साथ संचालित की जा सकें।

उत्तर पश्चिम रेलवे पर अब तक 2259 किलोमीटर रेल लाइन पर पर्यावरण अनुकूल विद्युतीकरण का कार्य पूर्ण कर गया है। उत्तर पष्चिम रेलवे के महत्वपूर्ण रेलखण्ड रेवाडी-अजमेर वाया फुलेरा, रेवाडी-अजमेर वाया जयपुर, जयपुर-सवाई माधोपुर एवं अजमेर-उदयपुर रेलखण्डों पर इलेक्ट्रिक ट्रेक्षन पर यात्री रेलसेवाओं का संचालन किया जा रहा है। राजस्थान के प्रमुख क्षेत्रों उदयपुर, अजमेर तथा जयपुर का जुडाव इलेक्ट्रिक ट्रेक्षन से सम्पर्क स्थापित हो गया है।

वर्तमान में उत्तर पष्चिम रेलवे पर 50 जोडी पसैन्जर ट्रेनों का संचालन इलेक्ट्रिक ट्रेक्षन पर किया जा रहा है। उत्तर पष्चिम रेलवे पर वर्ष 2021-22 में 976 किलोमीटर ब्राॅडगेज लाइनों को विद्युतीकृत किये जाने का लक्ष्य रखा गया है।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments