पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत मिलेगी स्कॉलरशिप और 10 लाख रुपए का फंड

  • कोविड के कारण माता-पिता को खोने वाले बच्चों के लिए केन्द्र व प्रदेश सरकार ने शुरू की कल्याणकारी योजनाएं
  • पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत मिलेगी स्कॉलरशिप और 10 लाख रुपए का फंड
  • सीएम मनोहर लाल ने कोरोना में अनाथ हुए बच्चों के लिए शुरू की मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना


रेवाड़ी 5 जून। कोरोना संक्रमण काल में कोविड के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले अनाथ बच्चों के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं ताकि ऐसे बच्चों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ा जा सके। उपायुक्त यशेन्द्र सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कोविड के कारण अपने माता-पिता अथवा दोनों में से किसी एक को खोने वाले बच्चे के लिए पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के तहत आर्थिक मदद देने का निर्णय लिया है। ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र में स्कॉलरशिप और 23 साल की उम्र में पीएम केयर्स से 10 लाख रुपए का फंड दिया जाएगा।


डीसी ने बताया कि वहीं दूसरी ओर हरियाणा प्रदेश की मनोहर लाल सरकार कोविड महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों की पालनहार बनी है। प्रदेश सरकार ने ऐसे अनाथ बच्चों की हर तरह की मदद के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की शुरूआत करने का निर्णय लिया है। इस योजना के तहत अनाथ हुए बच्चों को 18 वर्ष तक 2500 रुपये मासिक आॢथक सहायता प्रदान करने का निर्णय लिया है, जिससे उनकी पढ़ाई भी प्रभावित नहीं होगी। इन बच्चों को सरकार ने अन्य खर्चो के लिए 12 हजार रुपये वार्षिक भी देने का निर्णय लिया है।

डीसी ने कहा कि अनाथ बच्चों की सहायता के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत सरकार उनकी देखभाल का काम करेगी। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी व संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे पोर्टल पर जरूरतमंद बच्चों का डाटा उपलोड करने के लिए बच्चों का डाटा एकत्रित करें ताकि ऐसे बच्चों को सरकार की योजनाओं का लाभ मिल सके।
जिला बाल संरक्षण अधिकारी दीपिका यादव ने बताया कि रेवाड़ी जिला में 124 बच्चों का डाटा पोर्टल पर अपलोड किया जा चुका है, जिन्हें सीडब्ल्यूसी के समक्ष पेश किया गया है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि ऐसे बच्चों की जानकारी जिला बाल संरक्षण अधिकारी के मोबाइल नंबर 9992080512 व कार्यालय के दूरभाष नंबर 01274-221852 पर दे सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: