राष्ट्रीय

रिकॉर्डिंग से ठीक पहले पत्रकार को मिली मां के निधन की खबर,  लेकिन नहीं बंद किया इंटरव्यू, हर किसी ने की तारीफ

रिकॉर्डिंग से ठीक पहले पत्रकार को मिली मां के निधन की खबर,  लेकिन नहीं बंद किया इंटरव्यू, हर किसी ने की तारीफ

24 अगस्त की दोपहर लोकप्रिय ओडिया चैनल ओटीवी पर एक टॉक शो की शूटिंग कर रहे मनोरंजन जोशी अपने मोबाइल फोन को फ्लाइट मोड में डालने ही वाले थे कि उनके मोबाइल की घंटी बजी। जोशी के दोस्त ने फोन पर उन्हें बताया कि उसकी 73 साल की उनकी मां की भुवनेश्वर के एक अस्पताल ले जाते समय एम्बुलेंस में हृदय गति रुकने से मृत्यु हो गई।

किसी भी इंसान के लिए माता-पिता के निधन की खबर सबसे कष्टकारी होती है। बोलनगीर के टीवी पत्रकार 44 वर्षीय जोशी पर भी कुछ ऐसा ही बीता। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तारा प्रसाद बहिनीपति का साक्षात्कार करने से पहले वह इस खबर से परेशान थे। हालांकि उन्हें नॉर्मल मोड में आने में कुछ सेकंड का समय लगा। कांग्रेस नेता और उनके सहयोगियों द्वारा यह सुझाव देने के बावजूद कि उनकी व्यक्तिगत त्रासदी को देखते हुए शो को रद्द कर दिया जाए, जोशी ने साक्षात्कार किया। कांग्रेस नेता से “खोला कथा” नामक टॉक शो के लिए सवाल पूछे।

ओटीवी के संपादक राधा माधव मिश्रा ने कहा, “उन्होंने इस बात की मिसाल पेश की है कि प्रोफेशनलिज्म क्या है। वह इसे रद्द कर सकते थे, लेकिन उन्होंने आसपास के सभी लोगों से कहा कि शो चलना चाहिए। उनका कहना था कि शोक इंतजार कर सकता है। आम तौर पर लोग इस बात की सराहना नहीं करते हैं कि पत्रकार समय सीमा और कठिन परिस्थितियों में कैसे काम करते हैं। लेकिन मनोरंजन ने जो किया उसने हम सभी को गौरवान्वित किया है।”

http://www.livehindustan.com/national/story-just-before-recording-journalist-got-news-of-demises-of-his-mother-but-did-not-stop-interview-everyone-is-praising-4464150.html

सोशल मीडिया पर, जो लोग जोशी को जानते हैं, वे उनकी इस प्रतिबद्धता की भावना की सराहना कर रहे हैं। ट्विटर पर कई लोगों ने कहा कि उनका कार्य “उनकी दिवंगत मां को श्रद्धांजलि” था। टॉक शो में जोशी द्वारा साक्षात्कार किए गए बहिनीपति ने कहा कि पत्रकार के पास बहुत बड़ी इच्छाशक्ति है। उनकी मां का निधन हो गया और फिर भी उन्होंने शो जारी रखा। उन्होंने अपनी भावनाओं को हावी नहीं होने दिया। मैं भगवान जगन्नाथ से प्रार्थना करता हूं कि उनकी आत्मा को शांति मिले, और भगवान उन्हें और उनके परिवार को मजबूत रहने की हिम्मत दें।

जोशी दशक से अधिक समय से ओटीवी के साथ जुड़े हुए हैं। वह इसके पश्चिमी ओडिशा ब्यूरो प्रमुख हैं। उन्होंने कहा कि जिस क्षण उन्होंने अपनी मां के निधन की खबर सुनी, वह उनके जीवन का सबसे दुखद क्षण था। एक पल के लिए मैंने महसूस किया कि मेरे पैरों के नीचे से धरती खिसक रही है और मेरी आंखें भर आई हैं। लेकिन फिर मैंने सोचा कि वह चाहेगी कि मैं काम करता रहूं, चाहे कुछ भी हो जाए। मैंने सोचा कि टॉक शो करना उन्हें सबसे अच्छी श्रद्धांजलि होगी।

Show More
Back to top button