राष्ट्रीय

फसल अवशेष प्रबंधन स्कीम के तहत डीडीपीओ की अध्यक्षता में निकाला गया ड्रा

फसल अवशेष प्रबंधन स्कीम के तहत डीडीपीओ की अध्यक्षता में निकाला गया ड्रा

फसल अवशेष प्रबंधन स्कीम के तहत कृषि यन्त्रों पर अनुदान के लिए  जिला विकास एंव पंचायत अधिकारी, रेवाड़ी की अध्यक्षता में चयन ड्रा द्वारा किया गया।

कृषि एवम् किसान कल्याण विभाग द्वारा फसल अवशेष प्रबन्धन स्कीम के तहत कृषि यन्त्रों पर अनुदान के लिए ऑनलाईन आवेदन आमंत्रित किए गए थे, जिसके अन्तर्गत जिला रेवाड़ी में व्यक्तिगत श्रेणी के लिए विभिन्न प्रकार के कुल 23 कृषि यन्त्रों पर अनुदान देने का लक्ष्य दिया गया था व इसके लिए कुल 40 आवेदन विभाग को प्राप्त हुए थे। निर्धारित लक्ष्यों से अधिक आवेदन प्राप्त होने के कारण लाभार्थियों का चयन ड्रा द्वारा डीडीपीओ की अध्यक्षता में जिला स्तरीय कार्यकारी कमेटी द्वारा आवेदन करने वाले किसानों की उपस्थिति में किया गया।

ड्रा के दौरान पारदर्शिता रखते हुये विडियोग्राफी भी कराई गई। उप कृषि निदेशक डा. बलवंत सहारन ने बताया कि कस्टम हायरिंग सैन्टर स्थापित करने के लिए जिले में सामान्य श्रेणी के लिए 5 का लक्ष्य था जिसके लिए 3 आवेदन ही प्राप्त हुए। इसलिए कमेटी द्वारा सीधे ही इनका चयन कर लिया गया।

सभी चयनित किसानों को सहायक कृषि अभियन्ता, दिनेश शर्मा ने निर्देश दिये कि वे अपने सभी सम्बन्धित दस्मावेज सहायक कृषि अभियन्ता, रेवाड़ी कार्यालय में 16 सितंबर तक जमा करवायें, यदि कोई किसान अपने दस्तावेज जमा नहीं करवाता है तो उसके चयन को निरस्त करते हुए प्रतीक्षा सूची के लिए चयन किए गए आवेदकों को दस्तावेज जमा कराने का मौका दे दिया जायेगा। चयनित आवेदको को सभी संबन्धित दस्तावेज जमा कराने उपरान्त अनुदान पात्रता प्रमाण पत्र जारी कर दिया जाएगा। सभी किसानो को पराली व फसल अवशेष न जलाने बारे शपथ भी दिलवाई गई।

Show More
Back to top button