राष्ट्रीय

रेवाड़ी में कई स्थानों पर छठ पूजा का कार्यक्रम

रेवाड़ी में कई स्थानों पर छठ पूजा का कार्यक्रम

रेवाड़ी के सेक्टर एक स्थित सोलाराही तालाब,  कोनसीवास रोड स्थित श्याम वाटिका के समीप, धारूहेड़ा में करीब एक दर्जन और भिवाड़ी में करीब 20 से अधिक स्थानों पर छठ पूजा के लिए कृत्रिम घाट तैयार किए गए है। इनमें बुधवार शाम से कार्यक्रम होगा जो अगले दिन सुबह आठ बजे तक जारी रहेगा।  छठ पर्व हर साल कार्तिक शुक्ल षष्ठी को मनाया जाता है। ये तिथि इस बार 10 नवंबर को पड़ रही है। मुख्य रूप से इस पर्व को बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है। इस पर्व में 36 घंटे निर्जला व्रत रख सूर्य देव और छठी मैया की पूजा और उन्हें अर्घ्य दिया जाता है।

 

मान्यता है छठ पूजा करने से हर मनोकामना पूर्ण होती हैं। खासकर इस व्रत को संतानों के लिए रखा जाता है। कहते हैं जो लोग संतान सुख से वंचित हैं उनके लिए ये व्रत वरदान साबित होता है।  जानिए छठ पर्व की पूजा विधि, सामग्री, प्रसाद, कथा और आरती।

छठ पूजा: संध्या अर्घ्य और प्रात:काल के अर्घ्य का समय
10 नवंबर (संध्या अर्घ्य) सूर्यास्त का समय : 05:30 PM
11 नवंबर (प्रात:काल अर्घ्य) सूर्योदय का समय : 06:41 AM

 

छठ पूजा विधि:
-छठ पर्व के दिन प्रात:काल स्नानादि के बाद संकल्प लिया जाता है। संकल्प लेते समय इस मन्त्र का उच्चारण किया जाता है-
ॐ अद्य अमुक गोत्रो अमुक नामाहं मम सर्व पापनक्षयपूर्वक शरीरारोग्यार्थ श्री सूर्यनारायणदेवप्रसन्नार्थ श्री सूर्यषष्ठीव्रत करिष्ये।

-पूरे दिन निराहार और निर्जला व्रत रखा जाता है। फिर शाम के समय नदी या तालाब में जाकर स्नान किया जाता है और सूर्यदेव को अर्घ्य दिया जाता है।

Back to top button