राष्ट्रीय

वर्चस्व कायम करने की दौड़ में दिवाली के दिन कोसली में की गई थी इशु -बादशाह की हत्या

वर्चस्व कायम करने की दौड़ में दिवाली के दिन कोसली में की गई थी इशु -बादशाह की हत्या

रेवाड़ी के कोसली क्षेत्र में दिवाली के दिन हुए डबल मर्डर केस में पुलिस ने खुलासा करते हुए अबतक 6 बदमाशों को गिरफ्तार किया है. जबकि एक बदमाश अभी भी फरार है. पुलिस जाँच में सामने आया है कि कोसली में अपना वर्चस्व दिखाने की दोनों गुटों में होड़ मची थी. और दोनों गुट सरेआम लोगों से मारपीट कर गुंडागर्दी करते थे. वर्चस्व कायम करने में अब्बल कौन इस दौड़ में प्रवीण पंघाल गैंग और और मरने वाले इशु और अक्षय के बीच ठनी हुई थी. जिसके चलते ही प्रवीण पंघाल गैंग ने इशु और अक्षय को गोलियों से छलनी करने मौत के घाट उतार दिया था.

 

आपको बता दें कि दिवाली के दिन यशदेव उर्फ़ इशु और अक्षय उर्फ़ बादशाह दोनों कोसली बाजार के पास अपनी कार में बैठे हुए थे. तभी तीन बदमाशों ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी थी. जिसमें इशु और अक्षय दोनों की मौत हो गई थी. और हमलावर मौके से फरार हो गए थे. इस मामले में पुलिस ने शिकायत के आधार पर कुछ नामजद बदमाशों सहित अन्य पर केस दर्ज किया था. उस समय में मृतकों के परिजनों ने बताया था कि उनके बच्चों को दिवाली के दिन मारने कि धमकी पहले से दी हुई थी. जिसके चलते ही वारदात को अंजाम दिया गया.

इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज कर तफ्तीश शुरू की. जिसके बाद जेल में बंद प्रवीण पंघाल सहित उसके साथियों को जेल से पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट पर लेकर पूछताछ की . पुलिस पूछताछ में खुलासा हुआ कि प्रवीण पंघाल गैंग ने शूटर भेजकर इशु और अक्षय कि हत्या कि वारदात को अंजाम दिलाया था. पुलिस ने हत्या कि साजिश रचने वाले चार बदमाश सहित दो शूटर अर्जुन और प्रवीन उर्फ़ तुर्री को गिरफ्तार किया है. जबकि एक शूटर अभी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाया है.  पकड़े गए शूटर्स से 2 पिस्टल 30 बोर और एक पिस्टल 32 बोर बरामद की गई है। साथ ही 15 जिंदा कारतूस भी बरामद किये गए हैं।

Back to top button