Friday, January 21, 2022
HomeNationalआधार कार्ड की तरह अब हर घर की होगी यूनीक आईडी

आधार कार्ड की तरह अब हर घर की होगी यूनीक आईडी

डाकविभाग  जल्द ही डिजिटल एड्रेस कोड लाने जा रहा है यह कोड हर घर के लिए होगा. इस कोड में वो सारी जानकारी होगी जो एक आधार कार्ड में होती है.जब भी हम अपने परिचय के बार में बताते है तो गली, मोहल्ला, लैंडमार्क, गांव-टोला, शहर, राज्य, पिन कोड वगैरह सारा कुछ लिखना होता है यह आपके मकान की यूनीक आईडी होगी.हर राज्य के हर गांव-शहर के हर टोले-मोहल्‍ले में स्थित हर भवन का एक डिजिटल कोड होगा. संभावना है कि यह डिजिटल कोड पिन कोड की जगह ले लेगा.

 

डाक विभाग द्वारा डीएसी का मुख्य उद्देश्य देश के हर एड्रेस का डिजिटल ऑथेंटिकेशन करना है. इस डिजिटल पते में गांव या शहर की बजाय मकान के सटीक पते को तरजीह दी गई है. कारण कि गूगल मैप हो या अन्य डिजिटल मैप.. एड्रेस ट्रेस करने के लिए राज्य या शहर का नाम देना जरूरी नहीं होता. डाक विभाग चाहता है कि देश के 75 करोड़ भवनों को ‘नेबरहुड’ यानी बस्तियों में वर्गीकृत किया जाए और हर बस्ती में 300 पते शामिल किए जाएं. ऐसा हुआ तो पूरे देश को करीब 25 लाख बस्तियों में बांटा जा सकता है. यूनीक कोड से ही बस्ती और उसके हर मकान की पहचान होगी.

 

 

डाक विभाग तैयार करेगा डिजिटल एड्रेस कोड

केंद्रीय संचार मंत्रालय का डाक विभाग ने इस दिशा में कदम उठाया है. विभाग के अनुसार, हर मकान के लिए डिजिटल एड्रेस कोड (DAC) होगा, जो डिजिटल तालमेल की तरह काम करेगा. डाक विभाग ने इस बारे में आम लोगों और स्टेकहोल्डर्स से सुझाव आमंत्रित किए थे, जिसकी समयसीमा 20 नवंबर को समाप्त हुई. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, देश में करीब 35 करोड़ मकान हैं, जबकि व्यापारिक और अन्य प्रतिष्ठान मिलाकर करीब 75 करोड़ भवन होंगे. डाक विभाग का लक्ष्य इन सभी के लिए 12 डिजिट की यूनीक आईडी तैयार करना है.

 

 

यूनीक कोड के क्या होंगे फायदे

  1. हर घर का ऑनलाइन एड्रेस वेरिफिकेशन हो सकेगा. बैंक में खाता खुलवाने से लेकर, टेलीफोन-बिजली कनेक्शन लेने के लिए एड्रेस का प्रमाण नहीं देना होगा.
  2. नई व्यवस्था में हर मकान का एक अलग कोड होगा. अगर एक बिल्डिंग में 50 फ्लैट हों तो हर फ्लैट का यूनीक कोड होगा. वहीं एक मंजिल पर दो परिवार रहते हैं तो उनका भी अलग-अलग कोड होगा.
  3. जो भी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स डिजिटल मैप के जरिये डिलीवरी करते हैं, उनके लिए आसानी होगी. वे डीएसी के जरिये सटीक पते पर सामान डिलीवरी कर पाएंगे.
  4. केवाईसी के लिए बैंक, बीमा कंपनी के कार्यालय या अन्य जगहों पर नहीं जाना होगा. डिजिटल तरीके से ही ई-केवाईसी हो सकेगी.

 

अन्य फायदे 

कोई डाक हो, ऑनलाइन शॉपिंग से मंगाया गया सामान हो, फूड डिलीवरी ऐप से मंगाया गया फूड आइटम हो या फिर ओला, उबर ऐप से बुक की गई टैक्सी.इसी DAC यानी यूनीक कोड के जरिये सीधे आपके दरवाजे तक पहुंचेगा. गूगल मैप्स की तरह डिजिटल मैप सर्विस इसमें मदद करेगी. सैटेलाइट सिर्फ डीएसी के जरिये हर भवन की सटीक लोकेशन बता सकेंगे. वहीं जहां डिजिटल मैप्स की सेवाएं उपलब्ध न हो, वहां आप अपना पूरा पता दर्ज कर सकते हैं. बदलाव केवल इतना होगा कि आपको पिन कोड की जगह डीएसी दर्ज करना होगा.

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments