KYC के नाम पर साइबर ठग लोगों को लगा रहे चूना

ऑनलाइन पेमेंट ऐप पेटीएम (Paytm) के यूजर्स को मैसेज के जरिये केवाईसी (KYC) खत्‍म होने और अकाउंट बंद होने की चेतावनी दी जा रही है. इसके बाद केवाईसी अपडेट (KYC Update) करने के नाम पर हैकर्स (Hackers) यूजर्स के अकाउंट को अपने कंट्रोल में लेकर हेराफेरी (Fraud) कर रहे हैं. कोरोना संकट के ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलों (Online Fraud Cases) में भी तेजी आ गई है. देश का सबसे लोकप्रिय ऑनलाइन पेमेंट ऐप पेटीएम (Paytm) बार-बार हैकर्स के निशाने पर आता है. इस बार हैकर्स (Hackers) पेटीएम यूजर्स को मैसेज भेजकर चेतावनी दे रहे हैं कि आपकी केवाईसी खत्‍म होने वाली है. इसके 24 घंटे के भीतर आपका अकाउंट ब्‍लॉक हो जाएगा. साथ ही मैसेज में एक लिंक देकर केवाईसी अपडेट (KYC Update) करने को कहते हैं. इसके बाद यूजर्स के अकाउंट को कंट्रोल में लेकर लोगों को तगड़ा चूना लगा रहे हैं. बता दें कि देश में पेटीएम के 10 करोड़ से ज्‍यादा यूजर्स हैं.
हैकर्स यूजर्स को मैसेज भेजकर देते हैं चेतावनी
केवाईसी अपडेट के नाम पर धोखाधड़ी का शिकार होने वालों में मध्‍य प्रदेश के एक टीचर को 40 हजार रुपये से ज्‍यादा का झटका लगा. वहीं, महाराष्‍ट्र में हैकर्स ने एक पेटीएम यूजर को 1.5 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का चूना लगा दिया. पिछले कुछ महीनों में देशभर में पेटीएम यूजर्स को धोखाधड़ी वाले एसएमएस मिल रहे हैं. इनमें पेटीएम यूजर्स को चेतावनी दी जाती है कि उनका केवाईसी खत्‍म होने वाला है और सेवा 24 घंटे में ब्लॉक हो जाएगी. इनमें यूजर्स को दिए गए नंबर पर कॉल करने के लिए कहा जाता है.
ऐसे हैकर्स कंट्रोल करते हैं यूजर्स का अकाउंट
पेटीएम यूजर जब एसएमएस में दिए गए नंबर पर कॉल करता है तो उसे AnyDesk, TeamViewer या QuickSupport एप्लिकेशन इंस्टॉल करने को कहा जाता है. ऐप इंस्टॉल होने के बाद 9 अंक का एड्रेस कोड जेनरेट किया जाता है. इसे साझा करते ही हैकर्स यूजर्स की डिवाइस स्क्रीन को कंट्रोल कर सकते हैं. इसके बाद हैकर्स को अपने पेटीएम अकाउंट या अन्य ई-वॉलेट के जरिये लेनदेन की अनुमति मिल जाती है. हालांकि, पेटीएम पहले ही कह चुकी है कि उसकी तरफ से यूजर को ऐसे मैसेज नहीं भेजे जा रहे हैं.
हैकर्स से बचने के लिए इन बातों का रखें ख्‍याल
पेटीएम Full KYC केवल एक ऑथराइज केवाईसी प्‍वाइंट पर कंपनी के एजेंट के साथ पूरा किया जा सकता है. इसके तहत एसएमएस में केवल केवाईसी एजेंट के साथ एक अप्‍वाइंटमेंट फिक्स करने या नजदीकी केवाईसी प्‍वाइंट का पता लगाने के लिए लिंक दिया जाता है. पेटीएम कभी भी यूजर्स को कॉल नहीं करता है. इसके अलावा उन्हें कोई भी ऐप इंस्टॉल करने के लिए नहीं कहा जाता है. पेटीएम कर्मचारी अपने किसी भी पिन, ओटीपी, पासवर्ड, पासवर्ड रीसेट लिंक, डेबिट या क्रेडिट कार्ड सीवीवी या पिन या बैंक डिटेल्स के बारे में यूजर्स से पूछताछ नहीं करते हैं.
कॉपी _ न्यूज18

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: