साहित्यहरियाणा

कनाडा संसद के मुख्य पुस्तकालय में सुशोभित हुई भगवत गीता

पवित्र ग्रंथ भगवत गीता को कनाडा की संसद के पुस्तकालय में सुशोभित किया गया। संसद पुस्तकालय की प्रमुख सुश्री सोन्या ने गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद और भारतीय मूल के कनाडाई सांसद चंद्र आर्य से संसद पुस्तकालय के लिए गीता प्राप्त की।

कनाडा की राजधानी ओटावा में संसद भवन में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के तहत कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल का संदेश संसद भवन में चलाया गया। वहीं इस मौके पर पवित्र ग्रंथ भगवत गीता को कनाडा की संसद के पुस्तकालय में सुशोभित किया गया। संसद पुस्तकालय की प्रमुख सुश्री सोन्या ने गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद और भारतीय मूल के कनाडाई सांसद चंद्र आर्य से संसद पुस्तकालय के लिए गीता प्राप्त की।

इस अवसर पर स्वामी ज्ञानानंद ने कहा कि वर्तमान समय में भगवत गीता की प्रासंगिकता और भी ज़्यादा बढ़ गई है। हर व्यक्ति को गीता को अपने जीवन में आत्मसात करना चाहिए। उन्होंने कहा कि गीता का संदेश हर काल के लिए प्रासंगिक है और यह हज़ारों साल से मानव को प्रेरणा देता रहा है। उन्होंने कहा कि हमें गीता का संदेश दुनिया के हर कोने तक पहुंचाना है। इसी उद्देश्य से यह कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं।

समारोह में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का संदेश भी पढ़ा गया। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव महोत्सव के मौके पर पार्लियामेंट हिल में सभी का स्वागत किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस तरह के आयोजन कनाडाई लोगों को एक साथ लाते हैं और उन्हें अपनी विविधता का जश्न मनाने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। उन्होंने कहा कि भगवद गीता में निहित शांति, सद्भाव और भाईचारे का संदेश सार्वभौमिक है। उन्होंने इस विशेष दिन का हिस्सा बनने के लिए वहां उपस्थित सभी लोगों को धन्यवाद किया।

इस कार्यक्रम में चिन्मय मिशन के बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम और गीता श्लोक पाठ किया गया। वहीं शास्त्रीय नृत्य का प्रदर्शन भी किया गया। इस कार्यक्रम में नेपियन ओटावा के सांसद चंद्र आर्य, कनाडा में भारत के उच्चायुक्त, कैबिनेट मंत्री कमल गुप्ता, सुभाष बराला, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव एवं सूचना, जनसम्पर्क व भाषा विभाग के महानिदेशक डॉ. अमित अग्रवाल, नेपाल के राजदूत, बांग्लादेश और श्रीलंका के उच्चायुक्त, केडीबी के सचिव मदन मोहन छाबड़ा, केबीडी के सीईओ चंद्रकांत कटारिया और केडीबी सदस्य उपेंद्र सिंघल सहित अन्य गणमान्य लोग भी कार्यक्रम में मौजूद रहे।

 

उल्लेखनीय है कि कुरुक्षेत्र को विश्व पटल पर लाने और पवित्र ग्रंथ गीता के उपदेश जन-जन तक पहुंचाने के उद्देश्य से कुरुक्षेत्र और हरियाणा ही नहीं अपितु मारीशस और इंग्लैंड जैसे देशों में भी अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव को लेकर कार्यक्रमों का आयोजन किया जा चुका है। इस बार यह कार्यक्रम कनाडा में आयोजित किया गया।

Back to top button