हरियाणा

हरियाणा में एक महीने में रिश्वत लेते 3 अधिकारी और 19 कर्मचारियों को किया गिरफ्तार

विजिलेंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि उक्त कर्मियों को 2000 रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक की रिश्वत लेते पकड़ा गया। इसके अतिरिक्त, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत ब्यूरो ने इसी अवधि के दौरान की गई चार जांच में तीन राजपत्रित अधिकारियों, तीन अराजपत्रित अधिकारियों और 3 निजी व्यक्तियों के खिलाफ आपराधिक मामलों की भी सिफारिश की है। साथ ही 6 विशेष/तकनीकी जांच की रिपोर्ट सरकार को भेजी है जिसमें 14 राजपत्रित अधिकारियों और 5 अराजपत्रित अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करते हुए संबंधित एजेंसी से 16.25 लाख रुपये से अधिक की वसूली की सिफारिश की गई है।

विजिलेंस द्वारा मार्च में की गई गिरफ्तारियों की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि जिला टाउन प्लानर, करनाल विक्रम और चालक बलबीर को क्रमशः 5 लाख रुपये और 5000 रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया। इसी मामले में तहसीलदार करनाल, राजबख्श को गिरफ्तार किया गया। इसी प्रकार, नगर परिषद पलवल के बिल्डिंग इंस्पेक्टर चमन लाल को 5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया गया, जबकि एचएसवीपी बागवानी विंग के कार्यकारी अभियंता विजय कुमार को 30000 रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया। पुलिस स्टेशन अटेली नारनौल के ईएसआई देवेंद्र को 50000 रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार किया गया, निर्मला परिवहन निरीक्षक, बहादुरगढ़ को 20000 रुपये की रिश्वत लेते हुए काबू किया गया, साहा थाने के सब-इंस्पेक्टर ऋषिपाल और सीआईडी के ईएसआई कुलविंदर सिंह को 20000 रुपये की रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया गया, बाबैन (कुरुक्षेत्र) में तैनात यूएचबीवीएन के जेई चांद राम और देवेंद्र, लाइनमैन को 15000 रुपये की रिश्वत लेते पकड़ा गया।
 

जिला जेल जींद के फार्मासिस्ट जयबीर, एएसआई अनिल कुमार और एएसआई बिजेंद्र को 10-10 हजार रुपए लेते हुए गिरफ्तार किया गया। पुलिस चैंकी बहादुरगढ़ में तैनात कांस्टेबल नीरज और हेड कांस्टेबल सोनू दोनों को 5000 रुपये रिश्वत मांगने और स्वीकार करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। बहादुर सिटी मे तैनात महिला हेड कांस्टेबल पूनम को 5000 रुपये, खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के क्लर्क मंजीत को 5000 रुपये, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग फतेहाबाद के उपाधीक्षक शमशेर सिंह और जिला औद्योगिक केंद्र अंबाला के क्लर्क सुखबीर को क्रमशः 4000 रुपये और 3000 रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार किया गया। जींद और करनाल जिले में तैनात पटवारी नितिन और रंजीत सिंह, को 2000-2000 रुपये की राशि लेते हुए काबू किया गया।

 

Back to top button