हरियाणा

दहेज़: हरियाणा में हिसार का खेदड़ गाँव सभी के लिए बना मिसाल

दहेज़: हरियाणा में हिसार का खेदड़ गाँव सभी के लिए बना मिसाल

आधुनिकता के युग में भी हम अनेक बुराईयों से घिरे हुए है इनसे सबसे बड़ी बुराई दहेज़ है .हम दिन प्रतिदिन प्रगति की राह में आगे बढ़ रहे है लेकिन मानसिकता के तौर पर हमारा समाज आज भी वही है. हमारा समाज आज भी दहेज़ रूपी दानव को ख़त्म नही कर पाया है. समाज में फैली सामाजिक कुरीतियों को जड़ से मिटाने के लिए वैसे तो कई सामाजिक संस्थाएं अनेक जागरूकता अभियान चलाकर लोगों को समझाने का प्रयास कर रही है लेकिन फिर भी ये कुरितियां कम होने का नाम नही ले रही है.इस बुराई को ख़त्म करने के लिए आज की युवा पीढ़ी को ही आगे आना होगा.

 

इस बुराई को ख़त्म करने के लिए हरियाणा के हिसार जिले के गांव खेदड़ की ग्राम पंचायत ने सामाजिक बुराइयों को दूर करने को लेकर मुहिम शुरू की है और खास बात यह है कि पंचायत की इस मुहिम में हर कोई अपने तरीके से सहयोग कर रहा है. पंचायत की इस मुहिम को सफल बनाने के लिए गांव के दो टैक्सी ड्राइवरों ने घोषणा की है कि कोई भी लड़का या लड़की बिना दहेज के शादी करेगा तो वह गाड़ी का कोई किराया नहीं लेंगे.

 

इसी मुहिम में अपना योगदान देते हुए गांव के पंडित कपिल कौशिक ने कहा है कि अगर कोई लड़का या लड़की बिना दहेज के शादी करेगा तो वह फेरे कराने के कोई पैसे नहीं लेंगे. गांव के ही फोटोग्राफर पवन कुमार ने कहा कि लड़की के जलवा पूजन व बिना दहेज के शादी करने पर फोटो व वीडियो फ्री बनाएंगे. श्री साईं वाटर बरवाला लाइफ लाइन खेदड़ के राकेश जांगड़ा व मुकेश कुमार ने घोषणा की है कि गांव में जो भी लड़का या लड़की बिना दहेज के शादी करेंगे ,उन शादियों में पानी के कैंपर फ्री में उपलब्ध करवाएं जाएंगे और लड़की की शादी में 1100 रुपए कन्यादान भी दिया जाएगा.

 

इस गाँव की मुहिम का हर कोई सुनने वाला तारीफ कर रहा है और लोग उम्मीद भी जता रहे हैं कि ग्राम पंचायत की इस मुहिम का अन्य ग्राम पंचायतें भी अनुसरण करेंगी. जिससे समाज में फैली इन सामाजिक कुरीतियों को समाप्त करने के अभियान को मजबूती मिल सकें.जो ये कुरुतियाँ हमारे समाज में बढ़ रही है कहीं ना कहीं हम भी इसके जिम्मेदार है.

 

Show More
Back to top button