हरियाणा

हरियाणा: हड़ताल के दौरान बस चलाने पर रोडवेज के चालक-परिचालक को पहनाई जूतों-चप्पलों की माला,केस हुआ दर्ज

हरियाणा रोडवेज की दो दिवसीय चक्का जाम के चलते सिरसा के डबवाली में डबवाली रोडवेज यूनियन के सदस्यों ने हरियाणा रोडवेज (Haryana Roadways) की बस चला रहे दोनों कर्मियों चालक और परिचालक को रोककर उन्हें जूतों की माला पहना दी जिसकी वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल (Video Viral) हो रही है. वीडियो वायरल की सूचना मिलने के बाद कर्मचारी नेताओ ने मामले को लेकर अपना स्पष्टीकरण भी तुरंत जारी कर दिया. वहीं इस मामले में हरियाणा रोडवेज के राज्य प्रधान सरबत सिंह पूनिया से सवाल किया गया तो पूनिया ने मामला नोटिस में न होकर मामले से पल्ला झाड़ लिया. इसके बाद तुरंत पूनिया ने मामले की निंदा भी की. रोडवेज कर्मियों को जूता पहनाने वाले रोडवेज पदाधिकारी ने अपना तुरंत स्पष्टीकरण जारी कर दिया.

वीडियो के जरिए डबवाली रोडवेज यूनियन के प्रधान पृथ्वी चाहर ने अपना स्पष्टीकरण जारी करते हुए कहा कि हरियाणा रोडवेज की दो दिवसीय हड़ताल के कारण इन दोनों रोडवेज कर्मियों को जूतों की माला नहीं पहनाई गई बल्कि ये दोनों कर्मचारी शराब का सेवन कर हरियाणा रोडवेज की बस को चला रहे थे. उन्होंने कहा कि दोनों कर्मचारियों से जब उन्होंने शराब का सेवन कर बस को चलाने का कारण पूछा तो दोनों ही कर्मियों ने उनके साथ गली गलौच करनी शुरू कर दी. जिसके बाद रोडवेज के पदाधिकारियों ने उन दोनों को जूतों की माला पहना दी.

ऑल हरियाणा रोडवेज वर्कर यूनियन के जनरल सेक्रेटरी सरबत सिंह पूनिया ने मीडिया से बातचीत करते हुए घटना की निंदा की. उन्होंने कहा कि यह घटना उनके नोटिस में नहीं है अगर ऐसी कोई बात हुई है तो वो गलत है. उन्होंने कहा कि किसी रोडवेज कर्मचारी को स्ट्राइक में शामिल नहीं होने की सजा जूतों की माला पहनाना लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है. उन्होंने कहा कि हरियाणा भर से 16 हजार रोडवेज कर्मियों ने सरकार की नीतियों का विरोध करना था. लेकिन उसमे से 15 हजार कर्मियों ने सरकार की नीतियों का विरोध कर दो दिवसीय राष्ट्र व्यापी हड़ताल में बढ़चढ़कर भाग लिया है. जिन रोडवेज कर्मियों ने हरियाणा रोडवेज कर्मियों का साथ नहीं दिया उनको भी समझना चाहिए कि यह हड़ताल उनके लिए नहीं है बल्कि सभी रोडवेज कर्मियों के लिए है.

बस चालक और परिचालक की तरफ से मामले की शिकायत दी गई है। शिकायत के आधार पर सरकारी काम में बाधा डालने और धक्का मुक्की करने सहित कई धाराएं लगाकर मामला दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है। – सुरेश कुमार, थाना प्रभारी, सिविल लाइन सिरसा।

Back to top button