हरियाणा

ट्रैकिंग के लिए सरकार ने लांच की पोषण ट्रैकर एप

उन्होंने बताया कि यह एप्लीकेशन बहुत ही आसान है सभी परियोजना अधिकारी व सुपरवाईजर यह सुनिश्चित करें कि आंगनवाड़ी से संबंधित सभी सूचनाएं इस एप के माध्यम से ही भेजी जाएं।
श्रीमती सिवाच बालभवन रेवाड़ी में आयोजित प्रशिक्षण कार्यशाला में परियोजना अधिकारियों को संबोधित कर रही थी। उन्होंने आधार एनरोलमेंट व प्ले स्कूल बारे भी समीक्षा की।

उन्होंने निर्देश दिए कि कमजोर बच्चों पर व्यक्तिगत रूप से ध्यान दें, यह न केवल सरकारी काम है बल्कि एक सामाजिक कार्य भी है। जिले में कुपोषित बच्चों के माता-पिता से लगातार संपर्क में रहे और उन्हें सही डाइट चार्ट बना कर दें। उन्होंने कहा कि जिला के कुपोषित बच्चों की लगातार निगरानी की जाए तथा सुपरवाइजर के माध्यम से पोषण ट्रैकर पर डेटा अपलोड करने में किसी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए।

Back to top button