Friday, January 21, 2022
HomeHaryanaइंस्पेक्टर रैंक के पुलिस अधिकारियों को ही एचएचओ लगाने के डीजीपी ने...

इंस्पेक्टर रैंक के पुलिस अधिकारियों को ही एचएचओ लगाने के डीजीपी ने दिए निर्देश

हरियाणा में अब सब इंस्पेक्टर की बजाय इंस्पेक्टर ही थानों में एसएचओ लगायें जायेंगे । पुलिस महानिदेशक पी.के अग्रवाल ने प्रदेश के गुरुग्राम, फरीदाबाद व पंचकूला के पुलिस कमिश्नर के अलावा सभी जिलों के एसपी को निर्देश दिए है कि इंस्पेक्टर रैंक के पुलिस अधिकारी को ही एचएचओ यानी थाना प्रभारी लगाया जाएँ । हाल में प्रदेश के कई जिलों में इंस्पेक्टर होने के बावजूद सब इंस्पेक्टर को ही एसएचओ लगा रखा है। इसकी जानकारी डीजीपी के पास पहुंचने के बाद ये निर्देश दिए गए है।

 

बता दें कि हरियाणा में 3 बड़े जिले गुरुग्राम, फरीदाबाद और पंचकूला में पुलिस कमिश्नर कार्यरत हैं, अन्य सभी जिलों में एसपी तैनात हैं। सभी जिलों में इंस्पेक्टर को दरकिनार कर सब इंस्पेक्टर को एचएचओ ( थाना प्रभारी ) लगाया जा रहा है, क्योंकि थाना प्रभारी लगाने का निर्णय कमिश्नर या एसपी ही करते हैं। पुलिस महानिदेशक ने संज्ञान लेते हुए कहा कि कम रैंक वाले को एसएचओ लगाना ठीक नहीं है।

 

हरियाणा में 322 पुलिस थाने

प्रदेश के 22 जिलों में पुलिस के 24 जिले है, इनमें हांसी हिसार और मानेसर गुरुग्राम जिले में आता है। इसके अलावा 322 पुलिस थाने हैं, इनमें 33 महिला थाने शामिल हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार हरियाणा के 40% पुलिस थानों में इंस्पेक्टर को दरकिनार कर सब इंस्पेक्टर को एसएचओ लगाया हुआ है। कुछ जिले तो ऐसे है, जिनमें इंस्पेक्टर पुलिस लाइन में ड्यूटी दे रहे हैं और सब इंस्पेक्टर थाना प्रभारी के रूप में काम कर रहे है। इसके पीछे कारण राजनीतिक प्रभाव भी रहता है। रसूख के बलबूते ही बहुत से सब इंस्पेक्टर एसएचओ लग जाते हैं। कई ऐसे बड़े थाने है, जिनमें इंस्पेक्टर की बजाय सब इंस्पेक्टर लगे हुए हैं।

 

पोस्टिंग को लेकर एसपी लेते हैं निर्णय

इंस्पेक्टर व पुलिस अधिकारियों का ट्रांसफर पुलिस मुख्यालय से होता है। लेकिन उन्हें किस थाना या पुलिस चौकी में लगाना है, इसका निर्णय संबंधित जिले के एसपी तय करते है। इसलिए रसूखदार सब इंस्पेक्टर या इससे नीचे रैंक के पुलिस अधिकारी को भी थानों में एसएचओ लगा देते हैं।

 

Source:भास्कर

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments