Monday, November 29, 2021
HomeNationalकिसानों को गुलाम बनाना चाहती है बीजेपी - कप्तान अजय यादव

किसानों को गुलाम बनाना चाहती है बीजेपी – कप्तान अजय यादव

भाजपा सरकार के किसान विरोधी कृषि बिलों के खिलाफ आज रेवाडी में कैप्टन अजय सिंह यादव के नेतृत्व में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं  ने विरोध प्रदर्शन किया। भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कांग्रेसी कार्यकर्ता कैप्टन अजय सिंह यादव के निवास स्थान से जिला सचिवालय पंहूचे और महामहिम राष्ट्रपति के नाम जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा।
जिला सचिवालय के बाहर धरने पर बैठे किसानों को कैप्टन अजय सिंह ने अपना समर्थन देते हुए कहा कि ये लडाई किसान अकेलों की नही, हम सबकी लडाई है। किसानों का हक मिलने तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा। कांग्रेस पार्टी किसान भाईयों के साथ कंधा से कंधा मिलाकर खडी है। श्री यादव ने कहा कि कल राज्यसभा के अंदर किसान विरोधी कानून बगैर वोटिंग के और बिना डिवीजन के उपसभापति ने बिना पार्लियामेंट्री प्रोसीजर से काले कानून को पास करवा दिया। जिसकी हम कडी शब्दों में निंदा करते हैं। कल का दिन लोकतंत्र के इतिहास में काला दिन के रूप में जाना जाएगा।
उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार किसानों को गुलाम बनाना चाहती है। इस काले कानून में कहीं भी किसानों के न्यूतम समर्थन मूल्य का जिक्र नही है। दूसरा यदि किसाना अपनी फसल कहीं बाहर बेकने जाता है, उसमें कोई विवाद हो जाता है तो किसान सिविल कोर्ट में नही जा सकता है। किसान अपने विवाद को लेकर एस डी एम और जिला उपायुक्त के पास जा सकता है। इसका मतलब यह है कि किसानों के हाथ काटकर सरकार ने सबकुछ अपने पास कर लिया।
कैप्टन अजय सिंह ने कहा कि किसान भाईयों की जो मांगे हैं, हमने ज्ञापन के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति के सामने वो रखी हैं। इन प्रमुख मांगों में किसान, मजदूर और आढती विरोधी इन तीनों कृषि विधेयकों को तुरंत पुनर्विचार करना चाहिए, किसानों की फसल के एक-एक दान की न्यूतम समर्थन मूल्य पर सरकारी खरीद की गारंटी दी जाए, प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना के तहत किसानों को लाभ नही मिल पा रहा है। इस योजना का लाभ किसानों को दिया जाए इत्यादि हैं। इसके अलावा हमारे ईलाके में कपास बहूत ज्यादा होने लगी है। लेकिन रेवाडी में सरकार का कपास खरीद केंद्र नही बनाया है, मजबूरन किसानों को अपनी कपास ओन-पौने दामों में बेकनी पडती है। इसलिए सरकार को रेवाडी में कपास का खरीद केंद्र बनवाना चाहिए। वहीं बेरोजगारी को भी दूर करने के उपाय सरकार को करने चाहिए। क्योंकि सरकार ने तो वायदा किया था कि हर वर्ष 2 करोड रोजगार दिए जाएगें, लेकिन रोजगार को दूर है इस सरकार ने तो जो रोजगार पर थे उनका भी रोजगार छीन लिया। इसलिए बेरोजगार युवकों को न्याय के तहत हर महीने 6 हजार रूपये एक वर्ष तक दिए जाएं। इस मौके पर पूर्व मंत्री एम एल रंगा, वेद प्रकाश विद्रोही सहित सैंकडों की संख्या में कांग्रेसी कार्यकर्ता व किसान मौजूद रहे।
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments