Monday, November 29, 2021
HomeNationalरेलवे के निजीकरण खिलाफ कर्मचारियों ने किया विरोध प्रदर्शन

रेलवे के निजीकरण खिलाफ कर्मचारियों ने किया विरोध प्रदर्शन

रेलवे को निजी हाथों में सौंपे जाने के विरोध में नोर्थ वैस्टर्न रेलवे एम्पलाइज यूनियन के बैनर तले सहायक मंडल मंत्री बीकानेर मंडल का. देवेंद्र यादव गार्ड के नेतृत्व में स्थानीय रेलवे स्टेशन परिसर में जोरदार प्रदर्शन किया। इस दौरान कर्मियों ने अपनी मांगों के समर्थन में जोरदार नारेबाजी भी की। इस मौके पर अपने संबोधन में सहायक मंडल मंत्री का. देवेंद्र यादव ने कहा कि कर्मचारियों की मांगे तभी पूरी होगीं, जब  भारतीय रेल बचेगी। अगर रेल ही नहीं रहेगी, तो हम अपनी मांगो पर क्या लड़ाई लड़ेगें। इसलिए आज रेल को बचाने के लिए युवाओं को एकजुट होकर बड़े संघर्ष के लिए तैयार रहना  होगा। उन्होंने कहा कि आज रेल का युवा आल इंडिया रेलवे  मेन्स फैडरेशन से जुडक़र खुद को गौरवान्वित महसूस कर  रहा है। बड़ी संख्या में युवा रेल कर्मचारी इससे जुड़े हैं।
उन्होंने कहा कि आज भारतीय रेलवे के अस्तित्व पर ही संकट है। जो हालात है, उसमें रेल को बचाने की जिम्मेदारी रेलवे के युवा कर्मचारियों को लेनी होगी। हम अपनी मांगो को लेकर आज भी लड़ रहे हैं और आगे भी लड़ते रहेंगे, लेकिन आज जरूरत है संगठित होकर रेल को बचाने के लिए एक बड़े संघर्ष की।   यादव ने कहा कि हमें युवाओं की ताकत को 14 से 19 सितंबर तक जनसंपर्क अभियान में देखनी है। कर्मचारी हितों से तमाम समस्याओं को लेकर होने वाले कार्यक्रमों को कामयाब बनाने की जिम्मेदारी युवाओं की है। जब भारतीय रेल के कर्मचारी कोरोना महामारी से लड़ रहे थे,  उस वक्त सरकार ने डीए और डीआर को फ्रीज कर दिया। तमाम ट्रेनों  का संचालन प्राईवेट पार्टनर को  देने की तैयारी कर ली। उत्पादन  इकाइयों को निगम बनाने की साजिश शुरु कर दी। रेल के अस्पतालों को खत्म करने की तैयारी है। ऐसे  में जरूरी है कि रेल को बचाने  के लिए अब सडक़ पर उतरें, बिना लड़े कुछ भी हासिल नहीं होने वाला है। सहायक मंडल मंत्री ने कहा कि 19 सितंबर को रात आठ बजे से 8.10 तक सभी  रेलकालोनियों में अंधेरा यानि ब्लैक आउट करें, जिससे सरकार के पास सख्त संदेश पहुंचाया जा सके।
इस मौके पर सहायक शाखा सचिव भूप सिंह, यातायात निरीक्षक सत्यवान लांबा, सीएचआई बोटन सिंह, जितेंद्र यादव, प्रमोद सैनी, रतनलाल, अमित यादव, रामचंद्र, नरपत मीणा, ईश्वर सिंह, गोविंद सिंह, मोतीलाल, अविनाश, सूरत यादव, एके वरुण, मनोज अरोड़ा, आशीष दहिया, युधिष्ठिर, मुनेश, दिनेश, उदेश, पंकज, सुरेश, संदीप, नेकवर्धन, धर्मेंद्र, ताराचंद, राकेश, अंकित सैनी, गोविंद, अमित इंदौरिया, लाखन, जितेंद्र एस, साजन बत्रा, रामवीर, सार्दुल, शाहिद अली, बृजमोहन सहित समस्त लोको पायलट, गार्ड सहायक लोको पायलट, वाणिज्य, यांत्रिक व यातायात विभाग के रेल कर्मचारी मौजूद थे।
RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments